तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन और सऊदी अरब के किंग सलमान ने द्विपक्षीय संबंधों में सुधार और बातचीत के माध्यम से बकाया विवादों को सुलझाने के लिए शुक्रवार को एक फोन कॉल में सहमति व्यक्त की।

तुर्की राष्ट्रपति के कार्यालय ने एक बयान में कहा, दोनों नेताओं ने जी 20 शिखर सम्मेलन पर चर्चा की। उन्होने कहा, “राष्ट्रपति एर्दोगन और किंग सलमान द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने और मुद्दों को दूर करने के लिए संवाद के चैनलों को खुले रखने के लिए सहमत हुए।”

सऊदी राज्य समाचार एजेंसी एसपीए ने बताया कि शाह सलमान ने 21 और 22 नवंबर को होने वाले जी 20 शिखर सम्मेलन के ढांचे के भीतर प्रयासों का समन्वय करने के लिए एर्दोगन को बुलाया।

2018 में इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के बाद से ही दोनों देशों में तनाव बढ़ गया। सऊदी अरब ने एक साल से तुर्की से आयात का अनौपचारिक बहिष्कार किया हुआ है।

बता दें कि सऊदी अरब को दिसंबर 2019 में जी 20 की चेयरमेनशिप मिली है। अब 21 और 22 नवंबर को वर्चुअल लीडर्स समिट की अध्यक्षता करेगा।

शिखर सम्मेलन में जर्मनी, अमेरिका, तुर्की, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, चीन, इंडोनेशिया, फ्रांस, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, भारत, यूके, इटली, जापान, कनाडा, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब के भाग लेने की उम्मीद है और यूरोपीय आयोग।