अजरबैजान के अगदम में एक मस्जिद जो अर्मेनियाई लोगों द्वारा सू’अर के खेत में तब्दील हो गई थी और अब अल्लाह की मदद से मस्जिद मे साफ सफ़ाई करने के बाद नमाज़ियो क्व लिए खोल दिया गया है। 27 वर्षों के बाद इसके फिर से खुलने का उद्घाटन खुद अजरबैजान के राष्ट्रपति और उनकी पत्नी ने किया है।

साथ ही अज़रबैजान के राष्ट्रपति ने मस्जिद में क़ुरान-ए-पाक रखा और कसम खायी की वह आर्मेनियाई लोगों से अपना कब्ज़ा की हुई ज़मीन वापिस लेंगे साथ ही उन्होंने अपनी पत्नी के साथ मस्जिद में नमाज़ भी पढ़ी।

अज़रबैजान की इस बड़ी सफलता पर तुर्की और पाकिस्तान ने अर्मेनिआ के ख़िलाफ़ अज़रबैजान के पूर्ण समर्थन का वादा किया है। जिसके बाद इंटरनेट पर अज़रबैजान के झंडे के साथ तुर्की, पाकिस्तान का झंडा भी आया जिससे तीनो देशों ने एकजुट होने का संदेश ज़ाहिर किया।