रमजान शुरू हुए कुछ दिन हो चुके हैं. इस्लामिक इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि मुसलमान लॉक’डाउन में रमजान मना रहे हैं. इस दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों से कुछ खास बातों को लेकर अपील की गई है. जैसे इफ्तार पार्टी में शामिल होने के लिए दोस्तों या रिश्तेदारों को घर बुलाने से परहेज करें. साथ ही मस्जिद में एक साथ बैठकर नमाज पढ़ने की बजाए घर में बैठकर नमाज पढ़ें.

इसी बीच कई देशों के सामने सबसे लंबा रोजा रखने की चुनौती भी खड़ी है. चूंकि कई देशों में सूरज ज्यादा देर तक आसमान में दिखाई देता है इस वजह से यहां लोग ज्यादा देर तक भूखे-प्यासे रहकर रोजा रखते हैं. रशिया के मरमस्क शहर में लोग सबसे लंबा रोजा रख रहे हैं. यहाँ रोज़े की अवधि 20 घंटे तक पहुँच रही है.

इसके अलावा आइसलैंड की राजधानी रेकजाविक और अलास्का के फेयरबैंक्स में लोगों को 18 घंटे से ज्यादा वक्त तक रोजा रखना पड़ रहा है. जबकि स्वीडन के लुलेया, रशिया की राजधानी मॉस्को और जर्मनी की राजधानी बर्लिन में लोग 17 घंटे से भी ज्यादा देर तक रोजा रख रहे हैं.