दुबई में एक ग्रुप को न्यू’ड फोटोशूट के बाद गि’रफ़्ता’र कर लिया गया है और अब उन्हें उनके देश वापस भेजा जा रहा है. सरकारी अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है. हिरा’सत में लिए गए लोगों में कम से कम 12 यूक्रेनी महिलाएं और एक रूसी पुरुष है.

इन पर दुबई के मरीना इलाके में एक न्यू’ड फोटो शू’ट के बाद उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करने का आरो’प है. इन पर सार्वजनिक रूप से व्याभि’चार करने का आरोप है और इस इल’ज़ाम में पांच हज़ार दिरहम के जुर्मा’ने के साथ छह महीने की जे’ल तक की स’जा भी हो सकती है.

भारतीय मुद्रा में ये रकम एक लाख रुपये से ज़्यादा बनती है. दुबई भले ही सैलानियों के बीच बहुत लोकप्रिय है लेकिन वहां स’ख्त नियम क़ायदे हैं। जो भी लोग संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा करते हैं या फिर वहीं पर रहते हैं, उन पर देश का क़ा’नून लागू होता है, चाहे वे वहां के नागरिक हों या न हो.


यूएई जाने वाले सैलानी भी इसके अप’वाद नहीं हैं. इस मामले में 12 से ज़्यादा महिलाएं और एक फोटोग्राफर ने बालकनी में इस फोटो शू’ट को अंजाम दिया था. अन्य लोगों की नागरिकताओं के बारे में अभी पुष्टि नहीं हुई है.

पु’लिस का कहना है ये फोटोशू’ट संयुक्त अरब अमीरात के मूल्यों और परंपराओं से मेल नहीं खाता है.यूक्रेन के विदेश मंत्रालय ने इस घ’टना पर कहा है कि उसके दूतावास के अधिकारियों ने मंगलवार को उन 12 महिलाओं से मुलाकात की है.

यूक्रेनी दूतावास के अधिकारियों ने दुबई के क्रि’मिनल इन्वेस्टि’गेशन डिपार्टमेंट के चीफ़ से भी इस सिलसिले में मुलाकात की है.दुबई के मीडिया कार्यालय ने ये जानकारी दी है कि इस ग्रुप को उनके देश वापस भेज दिया जाएगा.