भारत की प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में नौकरी करने वाले हो जाये सावधान कुछ बातों पर ध्यान देने से आपको बेहद फायदा हो सकता है। लोगों की सैलरी का एक हिस्सा प्रोविडेंट फंड के तौर पर कटता है। यह पैसा रिटायरमेंट के बाद आपके काम आता है। नौकरी बदलने पर पीएफ अकाउंट ट्रांसफर किया जाता है। प्रोविडेंट फंड का पैसा तक तब ट्रांसफर नहीं किया जा सकता या निकाला नहीं जा सकता जब तक अकाउंट में डेट ऑफ एग्जिट अपडेट नहीं होती है।

अगर आपने नौकरी बदलने पर डेट ऑफ एग्जिट नहीं अपडेट की तो आपका पीएफ का पैसा अटक सकता है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने इस समस्या के समाधान के लिए बड़ी सुविधा दी है। अब कर्मचारी खुद नौकरी छोड़ने की तारीख खुद दर्ज कर सकते हैं। पहले कर्मचारी इसके लिए कंपनी पर निर्भर रहते थे। केवल कंपनी के पास ही कर्मचारी के कंपनी से जुड़ने और छोड़ने की तारीख डालने का अधिकार था। PF खाते में डेट ऑफ एग्जिट अपडेट करने की प्रक्रिया बेहद आसान है।

हालांकि, अगर आपने हाल ही में नौकरी छोड़ी है तो डेट ऑफ एग्जिट दर्ज करने के लिए आपको 2 महीने का इंतजार करना होगा। https://unifiedportal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface/ पर जाकर UAN, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालकर लॉग इन करें। अब Manage पर जाएं और Mark Exit क्लिक करें। ड्रॉप डाउन के अंतर्गत अपना पीएफ चुनें और डेट ऑफ एग्जिट कारण सहित अपडेट करें। अब ओटीपी के लिए क्लिक करें और आधार से लिंक्ड मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी दर्ज करें। इसके बाद चेक-बॉक्स को सेलेक्ट करें और अपडेट के ऑप्शन पर क्लिक करें। आपकी डेट ऑफ एग्जिट अपडेट हो जाएगी। आप लिंक ओपन करते ही स्टेप बाई स्टेप अपडेट कर सकते है।