अपनी स्टूडेंट life कौन भूल सकता है. यह वह वक़्त होता है जब कोई शख्स अपने घर से बाहर निकलकर दुनिया को देखता है. उसके देखने के नज़रिए से उसकी ज़िंदगी दिशा लेती है. ओह लगता है बात फिलोसोफिकल हो गयी, अरे भाई साब, इस विडियो में ऐसा चकल्लस है जो की वही समझ सकता है जो कभी PG में रहा हो.

एक जगह अनुभव अपने अनुभव बताते हुए कहतें हैं की हमारे रूम में चाय गिर गयी तो हमने उसपर अखबार बिछा दिया,, तो अख़बार की हैडलाइन ही फर्श पर चिपक गयी…

विडियो में इस तरह प्रेजेंटेशन दिया गया है की आपको ज़रूर एक बार जाकिर खान की याद आएगी. सबसे ख़ास बात यह की सिर्फ एक सीन को क्रिएट करके उसकी छोटी छोटी बातों में कॉमेडी बनायीं गयी है.

विडियो देखने के लिए क्लिक करें

विडियो काफी अच्छी बनी है एक बार ज़रूर देखें