कोरो’नोवाय’रस महा’मारी की दूसरी लहर से निपटने के लिए गुरुवार को यूएई का विशेष कार्गो विमान मेडिकल सहायता लेकर भारत पहुंच चुका है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि विदेश मंत्री एस जयशंकर को 25 अप्रैल को यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान से समर्थन मिला था। उसी के नतीजे भारत को ये मदद भेजी गई है। यूएई के विदेश मंत्री ने भी भारत के साथ एकजुटता व्यक्त की थी।

गुरुवार को, संयुक्त अरब अमीरात से 157 वेंटिलेटर, 480 BiPAPs और अन्य चिकित्सा आपूर्ति की चिकित्सा सहायता लेकर एक विशेष कार्गो भारत के लिए रवाना हुआ था।

IAF C-17 ने अब तक दुबई हवाई अड्डे से 18 क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कंटेनरों को एयरलिफ्ट किया है और 26 अप्रैल से तीन सॉर्टियों में पनागर एयर बेस पर उतरा है।

उल्लेखनीय है कि यूएई के विदेशी मामलों और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने रविवार को इस कठिन समय के लिए भारत सरकार द्वारा वर्तमान में किए गए प्रयासों के समर्थन में सभी संसाधनों को समर्पित करने के लिए यूएई की उत्सुकता व्यक्त की।