सऊदी अरब एयरलाइंस द्वारा जारी किए गये दिशानिर्देशों के अनुसार, राष्ट्रीय वाहक ने जानकारी दी है कि यात्रियों को संबंधित देशों द्वारा यात्रा के लिए अपनी पात्रता की जांच करनी चाहिए और यदि आवश्यक हो, तो आवश्यक परमिट और अनुमतियां प्राप्त करें। वहीं एयरलाइन ने एक नोट में ये भी कहा है कि शर्तों और दिशानिर्देशों को बिना पूर्व सूचना के बार-बार अपडेट किया जाना है। यात्रियों को यात्रा से पहले आधिकारिक और अधिकृत स्रोतों से यात्रा के लिए आवश्यक शर्तों और दिशानिर्देशों के बारे में नवीनतम जानकारी की जांच करनी चाहिए।

इसी के साथ सऊदिया ने यह भी उल्लेख किया कि यात्रियों को किंगडम में मान्यता प्राप्त परीक्षा केंद्रों में से एक से पीसीआर मेडिकल परीक्षा प्रमाणपत्र प्राप्त करना चाहिए। वहीं यात्रा दिशानिर्देशों के तहत आने वाले देश निम्नलिखित हैं: संयुक्त राज्य अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र, कुवैत, भारत, इंडोनेशिया, पाकिस्तान, फिलीपींस, मलेशिया, मोरक्को, स्पेन, इराक, इथियोपिया, मालदीव, चीन, स्विट्जरलैंड , फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम, इटली, ऑस्ट्रिया, बांग्लादेश, ग्रीस, जॉर्डन, केन्या, तुर्की, जर्मनी, बहरीन, लेबनान, नीदरलैंड, कतर, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका, सूडान, नाइजीरिया, ट्यूनीशिया, ओमान और मॉरीशस पर लागू होंगे।

सऊदी अरब की सरकारी एयरलाइंस सऊदिया ने 17 मई से फिर से फ्लाइट शुरू करने को लेकर कहा है कि 10 मिलियन यात्रियों ने 100,000 उड़ानों पर सुरक्षित यात्रा की है। फरवरी 2020 से कोरोना से एक भी यात्री प्रभावित नहीं हुआ है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़, ”रिकॉर्ड दिखाते हैं कि सऊदी अरब दुनिया की 10 सबसे अच्छी और सुरक्षित एयरलाइनों में से एक है। स्वास्थ्य और सुरक्षा के मामले में,” अल-मासी एपीई ने मीडिया सेंटर के अकाउंट पर एक बयान में कहा, पाठ वेबसाइट के अनुसार एक्स का हकदार है।’

सऊदी अरब ने पहले नागरिक उड्डयन विभाग और अन्य सरकारी एजेंसियों के साथ मिलकर कहा था कि “सोमवार 17 मई को दोपहर 1 बजे हवाई अड्डे के फिर से खुलने के बाद नागरिकों के लिए यात्रा की सभी तैयारियाँ पूरी कर ली गई हैं।”