ईरान में राष्ट्रपति पद के चुनाव में नेता इब्राहीम रईसी ने शनिवार को बड़े अंतर से जीत हासिल की. वह देश के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामेनेई के समर्थक और करीबी माने जाते हैं. इब्राहीम रईसी ईरान के शीर्ष न्यायाधीश हैं और अति-रूढ़िवादी विचार के शख्सियत माने जाते हैं. उन्हें 2019 में ईरान की न्यायपालिक का प्रमुख नियुक्त किया गया था. सुप्रीम लीडर के बाद ईरान के राष्ट्रपति देश में दूसरे सर्वोच्च अधिकारी माने जाते हैं.

माना जा रहा है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में ईरान के इतिहास में इस बार सबसे कम मतदान हुआ. शुरुआती नतीजों के अनुसार इब्राहीम रईसी ने एक करोड़ 78 लाख मत हासिल किए. चुनावी दौड़ में एकमात्र उदारवादी उम्मीदवार अब्दुलनासिर हेम्माती बहुत पीछे रह गए. बहरहाल, खामेनेई ने इब्राहीम रईसी के सबसे मजबूत प्रतिद्वंद्वी को अयोग्य करार दे दिया था. इसके बाद इब्राहीम रईसी ने यह बड़ी जीत हासिल की.


इब्राहीम रईसी की उम्मीदवारी के कारण ईरान में मतदाता वोटिंग के प्रति उदासीन नजर आए और पूर्व राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद सहित कई लोगों ने चुनाव का बहि’ष्का’र किया. एसोसिएटेड प्रेस के मुताबिक ईरान के गृह मंत्रालय में चुनाव मुख्यालय के प्रमुख जमाल ओर्फ ने बताया कि शुरुआती नतीजों में पूर्व रेवोल्यूशनरी गार्ड कमांडर मोहसिन रेजाई ने 33 लाख वोट हासिल किए और हेम्माती को 24 लाख वोट मिले. एक अन्य उम्मीदवार आमिरहुसैन गाजीजादा हाशमी को 10 लाख वोट मिले.

उदारवादी उम्मीदवार और ईरान के सेंट्रल बैंक के पूर्व प्रमुख हेम्माती और पूर्व रेवोल्यूशनरी गार्ड कमांडर मोहसिन रेजाई ने इब्राहिम रईसी को बधाई दी. हेम्माती ने शनिवार त’ड़के इंस्टाग्राम के माध्यम से इब्राहिम रईसी को मुबारकबाद दी. उन्होंने लिखा, ‘मुझे उम्मीद है कि आपका प्रशासन ईरान के इस्लामी गणराज्य को गर्व करने लायक बनाएगा, महान राष्ट्र ईरान के कल्याण के साथ जीवन और अर्थव्यवस्था में सुधार करेगा.’