राजद नेता तेजस्वी यादव ने रविवार को कहा कि कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की मुख्य विपक्षी पार्टी है और उसे 200 लोकसभा सीटों पर सत्ताधारी पार्टी के खिलाफ सीधी लड़ा’ई पर ध्यान देना चाहिए, ताकि भाजपा को जड़ से उखाड़ने में मदद करने के लिए  क्षेत्रीय दलों को अपने-अपने क्षेत्र में अपनी ही सीटो पर रहने दिया जा सके।

तेजस्वी यादव ने कहा, “पिछले अनुभवों से, मुझे लगता है कि कांग्रेस को उन सीटों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जहां वह भाजपा के साथ सीधी लड़ा’ई में है और शेष सीटों पर खुले दिल और दिमाग से क्षेत्रीय दलों को अपने-अपने गढ़ में ड्राइविंग सीट पर से जड़ से उखाड़ने देना चाहिए।

राजद नेता ने कहा कि सभी समान विचारधारा वाले विपक्षी दलों को एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम के आधार पर “इस सबसे दम’नकारी, विभा’जनकारी, सत्तावादी और फा’सीवादी सरकार” को हराने के लिए एक साथ आना चाहिए। यादव ने 2014 के आम चुनावों से पहले की लालू प्रसाद यादव की पिछली टिप्पणियों को दोहराया, जिसमें जोर देकर कहा गया कि उनके शब्द आज विपक्षी दलों और नागरिकों के लिए सच हैं।

उन्होने कहा, “हमारे नेता लालू (यादव) जी ने 2014 के चुनाव में पूर्वाभास दिया था- ‘ये चुनाव तय करेगा कि देश टूटेगा या बचेगा (यह चुनाव तय करेगा कि देश रहेगा या विभाजित होगा)’, और मुझे लगता है कि अधिकांश हमारे देश की पार्टियों और नागरिकों ने आज इस बात को महसूस किया है, जैसा पहले कभी नहीं हुआ।

tej

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार के दिल्ली स्थित आवास पर आयोजित ‘राष्ट्र मंच’ की बैठक के बारे में पूछे जाने पर, जिसमें सबसे पुरानी पार्टी के प्रतिनिधि शामिल नहीं हुए, यादव ने कहा कि वह इस बात से अनजान थे कि बैठक में वास्तव में क्या हुआ था, लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा कि कांग्रेस को चाहिए कि वह भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए के खिलाफ किसी भी राष्ट्रीय गठबंधन का आधार बनें।”