अफगानिस्तान में कतर, यूएई और पाकिस्तान तीनों ही देश मदद सामग्री पहुंचाने में लगे हुए हैं। यूएई का तीसरा विमान काबुल में खाद्य सामग्री और दवाई लेकर पहुंचा। पाकिस्तान ने कंधार में सहायता भेजी है। अब अफगानिस्तान से अपने संबंधों का फायदा उठाकर पाकिस्तान यहां चार्टर फ्लाइट शुरू कर सकता है। वह अपने ग्राहकों की मांग पूरी करने के लिए कर रहा है। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का तीसरा विमान सहायता लेकर काबुल एयरपोर्ट पर उतरा। तालिबान ने मीडिया को बताया कि यूएई हमारी निरंतर मदद कर रहा है। उनकी मदद से भरा विमान एक बार फिर उतरा है। इसमें खाद्य सामग्री, दवाई और कपड़े हैं।

काबुल एयरपोर्ट के इंचार्ज अब्दुल हादी हमदान ने बताया कि कई देशों की मदद काबुल एयरपोर्ट पर आ रही है। बहरीन ने भी 30 टन खाद्य सामग्री और दवाइयां भेजी हैं। एयरपोर्ट इंचार्ज ने बताया कि अब जल्द ही काबुल से नागरिक उड़ानों को शुरू किया जाएगा। इधर कंधार में पाकिस्तान के वाणिज्यदूत ने बताया कि हमारे देश ने यहां 12 टन खाद्य सामग्री और दवाइयों की मदद भेजी है। उम्मीद है कि अब दोनों देशों के बीच व्यापार में भी तेजी आएगी।

इधर एएनआइ के अनुसार, पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआइए) अफगानिस्तान से अच्छे संबंधों का फायदा उठाते हुए काबुल के लिए शीघ्र ही चार्टर फ्लाइट शुरू करने जा रही है। एयरलाइंस के प्रवक्ता अब्दुल्ला खान ने बताया कि हमारे कुछ विशेष ग्राहकों की मांग पर काबुल से लोगों को निकालने के लिए विशेष चार्टर फ्लाइट शुरू होगी। इस घोषणा पर अमल होने के बाद पाकिस्तान पहला ऐसा देश होगा,

जिसकी काबुल के लिए कामर्शियल फ्लाइट शुरू होंगी। हालांकि, बाद में एयरलाइन ने यह भी कहा कि सबकुछ अफगानिस्तान में जमीनी स्थिति पर निर्भर करता है। नेशनक कैरियर के एक प्रवक्ता, अब्दुल्ला खान ने वायस आफ अमेरिका (वीओए) को बताया कि सोमवार से विमान का संचालन फिर से शुरू होने को लेकर मीडिया रिपोर्ट्स को गलत संदर्भ में लिया गया है।