गल्फ न्यूज़ के मुताबिक, सऊदी अरब में सार्वजनिक रूप से शॉर्ट्स पहनना एक दं’डनी’य अप’राध है। सऊदी पब्लिक डेकोरम सोसाइटी, थौक के पूर्व प्रमुख बद्र अल ज़ायानी ने कहा की,”घुटने से ऊपर के शॉर्ट्स (छोटे कपड़े) सार्वजनिक शालीनता को अप’मानि’त करने वाला माना जाता है।”

उन्होंने 2019 के एक कानून का हवाला दिया जिसमें सार्वजनिक स्थानों पर “अ’श्ली’ल” पोशाक पहनने के लिए दं’ड शामिल है। उन्होंने सऊदी राज्य टेलीविजन अल एकबरिया को बताया की, “कई प्रकार के शॉर्ट्स हैं। और ऐसे लोग हैं जो इन शॉर्ट्स के बीच अंतर नहीं करते हैं। ”

उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि वे ध्यान दें कि सार्वजनिक स्थान समुद्र तटों से अलग हैं। “सार्वजनिक स्थानों के अपने ड्रेसिंग कोड होते हैं।”

2019 में, सऊदी अधिकारियों ने एक कानून लागू करना शुरू कर दिया, जिसे आधिकारिक तौर पर पब्लिक डेकोरम कोड करार दिया गया, जिसमें लोगों के लिए अपमा’नज’नक या खत’रना’क समझे जाने वाले सार्वजनिक कदाचार के लिए जुर्मा’ना और कारा’वास की स’जा का वादा किया गया था।

इस कानून के मुताबिक़, “अ’श्ली’ल” पोशाक पहनना या आप’त्तिजन’क छवियों, प्रतीकों या वाक्यांशों को प्रदर्शित करने वालों पर SR5,000 का जुर्मा’ना लगाया जा सकता है।