सऊदी अरब ने कहा है कि वो इसरा’इल के साथ रिश्ते बहाल करने के लिए तैयार है. ये बयान संयुक्त राष्ट्र में सऊदी अरब के स्थायी प्रतिनिधि अब्दुल्लाह अल-मोल्लिमी की ओर से आया है.

अल-मोल्लिमी ने समाचार पत्र अरब न्यूज़ को बताया है कि उनका देश वर्ष 2002 में शांति के लिए अरब देशों की पहल के प्रस्तावों के तहत, इसरा’इल से संबंध क़ायम करने के लिए तैयार है.

उन्होंने कहा कि अगर इसरा’इल 2002 की अरब शांति योजना को लागू करता है तो “केवल सऊदी अरब ही नहीं बल्कि ऑर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन के सभी 57 सदस्य उसका साथ देंगे.”

अल-मोल्लिमी ने अहम बात ईरान के बारे में भी कही है. इस साल अप्रैल से खाड़ी के देशों में दबदबे के लिए प्रतिद्वंद्वी ईरान और सऊदी अरब आपस में बात कर रहे हैं. लेकिन अब अल-मोल्लिमी ने कहा है कि ईरान इन वार्ताओं में गंभी’र नहीं लग रहा है.

क्या सऊदी अरब, मुस्लिम देश से हो रही वार्ताओं से नाख़ुश है और अपने दुश्म’न इस’राइल की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ा है? इस सवाल का जवाब काफ़ी पेचीदा है.